Monday, 4/7/2022 | 3:12 UTC+0
Breaking News, Headlines, Sports, Health, Business, Cricket, Entertainment

सावधान… बाजार में भारी मात्रा में मौजूद हैं नकली अंडे, ऐसे करे पहचान

Nakli anda

कहा जाता है संडे हो या मंडे रोज खाओ अंडे… पर क्या कभी आपने सोचा है की अंडा सेहत बनाने की जगह आपको बीमार भी कर सकते हैं। यह बात सुनकर आपको आश्चर्य होगा पर ये बात एकदम सच है। आजकल बाजार में तेज़ी से नकली अंडे बेचने का कारोबार चल रहा है। बाजार में मिल रहे ये नकली अंडे चीन से आए हैं। इसलिए कुछ लोग इन्हें ‘चाइनीज अंडों’ का नाम दे रहे हैं। वैसे तो अंडे शरीर में प्रोटीन, कैल्शियम, विटामिन और ओमेगा-3 फैटी एसिड की कमी पूरी करती है। लेकिन जरा संभलकर… बाजार में भारी मात्रा में मौजूद नकली अंडे आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

हालात ये है कि मार्केट में मुर्गी के अंडों के साथ-साथ केमिकल से तैयार प्लास्टिक अंडा भी बिक रहा है। ऐसे में जरूरी है नकली और असली अंडों के बीच का अंतर जानना। वैसे तो असली और नकली अंडे देखने में एक समान लगते हैं। इसलिए दोनों के बीच फ़र्क जानना थोड़ा मुश्किल जरूर है। लेकिन हम आपको बताते हैं कुछ आसान तरीके जिससे आप नकली अंडों के सेवन से बच पाएंगे…

ऐसे पहचाने नकली अंडे

नकली अंडे की बाहरी परत थोड़ी चमकीली और खुरदुरी होती है।

नकली अंडे आकार में असली अंडे से छोटे होते हैं।

नकली अंडे का छिलका थोड़ा सख्त होता है। छिलके के अंदर रबरनुमा कोटिंग होती है।

नकली अंडे का भीतरी हिस्सा उबालने के बाद सख्त हो जाता है।

नकली अंडा जल्दी खराब नहीं होता और ना ही इससे गंध आती है।

नकली अंडे को बाहर खुले में रखने पर इसमें मक्खियां, चीटियां, अन्य कीड़े नहीं लगते।

नकली अंडे को बनाने में असली अंडों के मुकाबले कम खर्च आता है।

नकली अंडे को फोड़ने से पहले हिलाने पर अंदर से आवाज़ होती है।

नकली अंडे उबलने के बाद पानी में नहीं डूबते। ये अंडे पानी के ऊपर ही तैरने लगते हैं।

नकली अंडे का यॉर्क फोड़ते ही सेकंड के अंदर सफेद हिस्से में मिलने लगता है।

नकली अंडे का यॉर्क असली अंडे के मुकाबले कुछ ज्‍यादा ही पीला होता है।

नकली अंडे के छिलके को जलाने पर प्‍लास्‍टिक के जलने की बदबू आती है।

ऐसे बनता है नकली अंडा

नकली अंडा बनाने के लिए गुनगुने पानी में सोडियम एल्गिनाइट डाला जाता है। इसके बाद जिलेटिन, बेंजोइक, एल्यूम व अन्य रसायन मिलाकर अंडे का सफेद हिस्सा तैयार किया जाता है। पीला हिस्सा तैयार करने के लिए पीला रंग मिलाया जाता है। इसके बाद सफेद और पीले हिस्से को कैल्सियम क्लोराइड के साथ मिलाकर अंडे के आकार में ढाला जाता है।

Advertisment

POST YOUR COMMENTS

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2020 News18Network | Derben Clove by News18Network Our Partner Indian Business And Mobile Technology