Tuesday, 5/7/2022 | 9:08 UTC+0
Breaking News, Headlines, Sports, Health, Business, Cricket, Entertainment

गरीब छात्र कंप्यूटर सॉफ्टवेयर के लिए कोड बना रहे

anuj-nirmal

इंटरनेट क्रांति आम आदमी के जीवन स्तर को बेहतर बनाने में जिस तरह मदद कर रही है, आकाश नौटियाल इसका जीता जागता मिसाल हैं। नौटियाल के गरीबी ने उसे बवर्ची बनने के लिए मजबूर कर दिया पर नौटियाल ऑनलाइन स्टडी करके कुक से कोडर बन गया। अब वह कंप्यूटर सॉफ्टवेयर के लिए कोड लिख सकते हैं और वेब पेज भी बना सकता है।

आकाश नौटियाल को 2014 में कुछ बदमाशो ने लूट लिया था। पैसा, लैपटॉप, किताबें, कपड़ें सब लूट लिए गए थे और उनके पास कुछ भी नहीं बचा था। उनके पास जहां वह काम करते थे, कॉल सेंटर,  तक जाने के लिए पैसे नहीं थे,  इसी कारण से उन्हें नौकरी भी छोडनी पड़ गई। उनके मकान मालिक ने भी उन्हें घर से निकाल दिया था । तब वह मात्र 17 साल के थे। नौटियाल ने इस संकट के समय में हाउसिंगडॉटकॉम के फाउंडर्स के यहां कुक की नौकरी कर ली।

हाउसिंग डॉटकॉम के फाउंडर्स को कंप्यूटर कोडिंग में लगे देखकर नौटियाल की जिग्यासा बढ़ी और उन्होंने उनसे इसके बारे में पूछा। नौटियाल ने बताया, हाउसिंगडॉटकॉम के फाउंडर्स के यहां कुक की नौकरी करते हुए मैंने एचटीएमएल, सीएसएस, जावा और वेब पेज बनाना सीख गया। बाद में ऑनलाइन स्टडी की मदद से मैंने प्रोग्रामिंग के क्षेत्र में बहुत कुछ सीखा। इस टाइम नौटियाल फिटनेस ऐप इम्पैक्ट्रन में आईओएस कोडर के तौर पर काम कर रहा है।’  इस तरह वह 70,000 रुपये महीना कोडर बनकर कमाते हैं, जो उनकी पुरानी नौकरियों के महीने की सैलरी से कई गुना ज्यादा है।

सॉफ्टवेयर के लिए इस्तेमाल होने वाले कोड पर निपुर्णता हासिल करने वालो में नौटियाल अकेले ऐसे नहीं हैं । बहुत से ऐसे बच्चे जो वंचित वर्ग के है कंप्यूटर प्रोग्राम्स के लिए कोड लिखना सीख रहे हैं। इन प्रोग्राम्स का इस्तेमाल ऐप्स, वेबसाइट, ऑपरेशन सिस्टम्स को चलाने में किया जाता है। इसमें उनको ऑनलाइन रिसोर्सेज से काफी मदद मिल रही है।

इसी तरह की एक और कहानी 15 वर्षीय अनुज निर्मल जो गोरेगांव, मुंबई की एक चाल में रहता है, अनुज निर्मल के पिता कपड़ों पर आइरन करने का काम करते हैं। निर्मल अपने पिता के काम में भी सहायता करता हैं लेकिन निर्मल ने अपना इरादा प्रफेशनल कोडर बनने का कर लिया है। निर्मल स्कूल के बाद एक साइबर कैफे में काम करते हैं,  क्योकि उनके पास अपना कंप्यूटर नहीं है वहां कैफे के मालिक निर्मल को पढ़ाई करने का मौका देकर उनकी मदद करते है। जिस कारण निर्मल वहीं कंप्यूटर पर कोड सीखने लगते हैं। निर्मल ने बताया, ‘मैंने खुद से एचटीएमएल और सीएसएस सीखी और अब कोडअकैडमीडॉटकॉम से जावा सीख रहा हूं।’ वेबसाइट, ऐप्स और मशीन डिजाइन करने वाली अपनी कंपनी खोलना निर्मल का लक्ष्य बन चुका है। रोबॉटिक्स में भी निर्मल की काफी दिलचस्पी है और वह जारविस जैसे रोबॉट बनाने का सपना देख रहे हैं और वह आइरनमैन के फैन हैं।

Advertisment

POST YOUR COMMENTS

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2020 News18Network | Derben Clove by News18Network Our Partner Indian Business And Mobile Technology